PUBG की भारत में दोबारा होगी वापसी? खत्म होगा गेम का चीनी कनेक्शन, कंपनी ने किया बड़ा ऐलान

Spread the news

PUBG Mobile गेम को भारत में प्रतिबंधित कर दिया गया है। PUBG Mobile गेम के भारत में प्रतिबंधित होने के बाद PUBG गेम की मेन साउथ कोरिया कंपनी PUBG कॉर्पोरेशन सक्रिय हो गई है। PUBG कॉर्पोरेशन की तरफ से मंगलवार को चीनी कंपनी Tencent Games से अलग होने का ऐलान कर दिया गया है। ऐसे में अब भारत में PlayerUnknow,s Battlegrounds (PUBG) के मोबाइल वर्जन के लिए Tencent ऑथराइज्‍ड नहीं रहेगी। साधारण शब्दों में कहें, तो भारत में PUBG Mobile को संचालित करने का कानूनी हक चीनी कंपनी Tencent के पास नही रहेगा। PUBG की मेन साउथ कोरयाई कंपनी PUBG कॉर्पोरेशन ही भारत में PUBG Mobile की पब्लिशर कंपनी होगी।

PUBG की मेन साउथ कोरिया कंपनी का बयान 

PUBG कॉर्पोरेशन ने अपने बयान में कहा कि भारत में PUBG Mobile गेम के पब्लिशिंग की सारी जिम्मेदारी कंपनी खुद संभालेगी। साथ ही कंपनी ने आने वाले दिनों में भारत में PUBG के एक्सपीरिेयंस को ज्यादा बेहतरीन बनाने का ऐलान किया। PUBG कॉर्पोरेशन ने कहा कि वो भारत की सुरक्षा चिंताओं को समझती है और भारत सरकार के साथ मिलकर इस समस्या का समाधान खोजना चाहती है। साथ ही कंपनी ने भारतीय कानून के हिसाब से भारत में गेम को दोबारा से उपलब्ध कराने की बात कही।

PUBG Mobile गेम PUBG का ही मोबाइल वर्जन गेम है। इसे साउथ कोरियाई कंपनी PUBG कॉर्पोरेशन ने बनाया है। साथ ही PUBG का इंटलैक्चुअल प्रॉपर्टी राइट भी PUBG कॉर्पोरेशन के पास ही है। साउथ कोरियाई कंपनी ने ही PUBG गेम को विकसित किया है और इसकी पब्लिशिंग भी की है। लेकिन PUBG के पॉप्युलर होने के बाद साउथ कोरियाई कंपनी ने चीनी कंपनी Tencent के साथ हाथ मिलाया, जिससे PUBG को दुनिया के बाकी देशों में तेजी से पहुंचाया जा सके। ऐसे में भारत में PUBG मोबाइल के प्रसार की जिम्मेदारी Tencent कंपनी को मिली। PUBG के पूरे कारोबार पर मुख्य तौर से PUBG कार्पोरेशन का ही हक है। भारत में PUBG के टैबलेट और कंप्यूटर वर्जन की पब्लिशिंग मेन कंपनी PUBG कॉर्पोरेशन ही करती है. ऐसे में भारत सरकार ने PUBG के कंप्यूटर और टैबलेट वर्जन को बैन नही किया है। सरकार की तरफ से PUBG Mobile को बैन किया गया है, जिसकी फ्रेंचाइजी चीनी कंपनी Tencent Holding के पास है।

Please follow and like us:
RSS
Follow by Email
Facebook
Google+
http://readersmessenger.com/?p=1675
Twitter

Related posts

Leave a Comment