इटली में सात महीने बाद लौटी स्‍कलों की रौनक, कक्षा में मास्‍क व शारीरिक दूरी के नियम अनिवार्य

Spread the news

उत्‍तरी इटली के शहर कोडोग्रो में सोमवार को स्‍कूलों में बच्‍चों की रौनक देखी गई। कोरोना महामारी के दौरान सात महीनों तक यहां के स्‍कूलों में ताले लटके रहे। शहर में कोरोना प्रसार के मद्देनजर फरवरी महीने में स्‍कूलों को बंद कर दिया गया था। बता दे कोडोग्रो शहर में कोरोना वायरस का सर्वाधिक प्रकोप रहा। इसके चलते शहर में कठोर प्रतिबंधों का सामना करना पड़ा। हालांकि, इटली के सभी 80 लाख स्‍कूली छात्रों को दो महीने के सख्‍त लॉकडाउन में रहना पड़ा, लेकिन कोडोग्रों शहर के बच्‍चों को इसका लंबा सामना करना पड़ा।

कोडोग्रो की एक मिडिल स्कूल की प्रिंसिपल सीसिलिया कुगिनी ने कहा कोरोना महामारी के दौरान कई बच्‍चों ने अपने दादा-दादी खो दिए हैं। कोडोग्रो के मेयर फ्रांसेस्को पसेरिनी ने कहा कि 17,000 कस्बे में महीनों से अब तक कोरोना वायरस का कोई नया मामला सामने नहीं आया है। अधिकारियों को इसकी शिकायत नहीं मिल रही है। उन्‍होंने कहा कि शहर के करीब 3500 छात्रों की अधिकतम सुरक्षा प्रदान करने के लिए स्‍कूल प्रशासकों के दिन रात काम किया है। उन्‍होंने कहा हमने सुरक्षा को लेकर कोई कसर नहीं छोड़ा है।

कोडोग्रो के नर्सरी स्‍कूलों ने इसके लिए बाकयादा एक गाइड लाइन जारी किया है। इसके तहत बच्‍चों को स्‍कूल में मास्‍क पहनना अनिवार्य नहीं है, लेकिन परिजनों को बच्‍चों का नियमित तापमान लेना होगा। इसके लिए परिजनों पर यह जिम्‍मेदारी सौंपी गई है कि वह घर पर बच्‍चों के तापमान की निगरानी करेंगे। प्राथमिक विद्यालय और मीडिल स्‍कूलों में तापमान के साथ मास्‍क पहनना अनिवार्य किया गया है। हालांकि, पाठ के दौरान बच्‍चों को मास्‍क उतारने की छूट होगी। कोडोग्रो में स्‍कूल प्रबंधन और स्‍थानीय प्रशासन ने संयुक्‍त रूप से स्‍कूलों को खोलने के लिए अथक प्रयास किया है।इटली में अब तक 287,753 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्‍या 35,610 के पार जा चुकी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार दुनिया भर में कोविड-19 से संक्रमण के नए मामलों ने रविवार को रिकॉर्ड कायम किया। 24 घंटों में संक्रमण की कुल 3 लाख के ऊपर पहुंच गई। एजेंसी की वेबसाइट के अनुसार संक्रमण के नए मामले सबसे अधिक भारत, अमेरिका और ब्राजील से आए हैं। दुनिया भर में कोविड-19 के कारण मरने वालों का आंकड़ा 9 लाख के पार जा चुकी है।

Please follow and like us:
RSS
Follow by Email
Facebook
Google+
http://readersmessenger.com/?p=1571
Twitter

Related posts

Leave a Comment