हिमालय बचाओ,पॉलीथिन हटाओ अभियान: खास मौके पर एक पौधा जरूर लगाएं : शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे

हिमालय दिवस पर बुधवार को देहरादून से लेकर दिल्ली तक हिमालय संरक्षण की आवाज बुलंद हुई। देहरादून में ‘हिन्दुस्तान हिमालय बचाओ- पॉलीथिन हटाओ’ अभियान के तहत आयोजित ई-संवाद में निबंध लेखन, भाषण प्रतियोगिता के विजेताओं की घोषणा की गई। प्रदेश के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने विजेताओं के नाम की घोषणा करते हुए, ‘हिन्दुस्तान’ की पहल को सराहा। ई-संवाद में अपर शिक्षा निदेशक आरके उनियाल भी शामिल हुए। इसका संचालन ‘हिन्दुस्तान’ के स्थानीय संपादक गिरीश गुरुरानी ने किया। इधर, दिल्ली में भी हैस्को की ओर से आयोजित कार्यक्रम में देश…

राज्यसभा में लगातार दूसरी बार उपसभापति बने हरिवंश नारायण सिंह, विपक्ष के उम्मीदवार मनोज झा को हराया

हरिवंश नारायण सिंह लगातार दूसरी बार राज्यसभा में उपसभापति चुने गए हैं। राज्यसभा में राजग (एनडीए) के उम्मीदवार का मुकाबला विपक्ष के उम्मीदवार मनोज झा से था। ध्वनि मत से हुए मतदान में हरिवंश ने जीत हासिल की। जगत प्रकाश नड्डा ने हरिवंस को उपसभापति बनाने का प्रस्ताव पेश किया तो विपक्ष की ओर से गुलाम नबी आजाद ने मनोज झा के नाम का प्रस्ताव रखा गया था। जेडीयू की तरफ से राज्यसभा सदस्य हरिवंश और आरजेडी नेता मनोज झा के बीच हुए इस मुकाबले को आगामी बिहार चुनाव से पहले दिलचस्पी से देखा…

Hindi Diwas 2020:आपदा में हिंदी के लिए बड़ा अवसर बना सोशल मीडिया

कोविड-19 से उपजी स्थिति आपदा हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए अवसर सिद्ध हुई है। देश के कई छोटे बड़े प्रकाशक फेसबुक पर पेज बना किताबों पर चर्चा, लेखकों से परिचर्चा के माध्यम से पाठकों से रूबरू हो रहे हैं। पिछले छह माह में सोशल मीडिया पर कविता पाठ, मुशायरों और किताबों के प्रकाशन ने हिन्दी का बड़ा डिजिटल मंच तैयार कर दिया है। राजकमल, वाणी सहित हिंदी अन्य बड़े प्रकाशक ऑनलाइन विभिन्न विषयों व किताबों पर चर्चा-परिचर्चा आयोजित कर रहे हैं। जो लेखक प्राय: बड़ी संगोष्ठियों में ही जाया करते…

बांग्लाभाषी क्रांतिकारी शचीन्द्र बाबू को बर्दाश्त नहीं था हिन्दी के साथ सौतेला व्यवहार

काकोरी कांड के नायक शचीन्द्र नाथ सान्याल बांग्लाभाषी थे, लेकिन वह हिन्दी को भारतीय अस्मिता का प्रतीक मानते थे। उन्हें हिन्दी और अंग्रेजी शिक्षकों के वेतन के अंतर को लेकर मलाल रहता था। अपनी पत्नी से कई बार उन्होंने इसे साझा भी किया था। अपनी आत्मकथा ‘बंदी जीवन’ की प्रस्तावना में भी वे खुद की अच्छी हिन्दी न होने पर अफसोस जाहिर करते हैं, साथ ही पाठकों को भरोसा देते हैं कि अगला संस्करण हिन्दी में ही होगा। कोलकाता में रहने वाली बहू कृष्णा सान्याल ने साझा कीं क्रांतिकारी ससुर…

जहां रोशन है दिव्यांग बच्चों की दुनिया, वहां बसते हैं सपने

अवध राज सिंह(तहसील रिपोटर गौरीगंज) हाई वे, मुख्य सड़क, महानगरीय सड़क, राजमार्ग, साठ फुट्टा रोड़, गली, चौपड़ आदि। इन नामों से कैसी तस्वीर बनती है? यही कि उक्त सारे नाम यातायात के प्रमुख साधनों में से एक हैं। सड़क उनमें से ऐसा मार्ग है जो जमीन पर रेलवे के अतिरिक्त बना करती है। क्या ऐसी भी गली की कल्पना कर सकते हैं जहां आप इंटर करें तो आपके साथ दूसरा कोई भी कंधे से कंधा मिला कर न चल सके। यानी ऐसी गली जहां धूप को भी आने के लिए…

आजादी के सात दशकों बाद भी बाल विवाह जैसी कुप्रथा से पीछा नहीं छूटा

रणजीत बहादुर सिंह(तहसील रिपोटर) छोटी सी उमर में परनाई रे बाबा सा… काइ थारो करयो में कसूर… ये गाना भला किसने नहीं सुना होगा और इसे सुनने के बाद किसका हृदय द्रवीभूत होकर आंसुओं की भाषा में अभिव्यक्त नहीं हुआ होगा! बाल विवाह एक ऐसी कुप्रथा है जिससे हमारा देश और समाज आजादी के सात दशकों के इतने लंबे समय के बाद भी पीछा नहीं छुड़ा पाया है। यही कारण है कि अक्षय तृतीया जैसे पावन एवं धार्मिक दिवस पर बाल विवाह कराने की विकृत मानसिकता अब भी मौजूद होकर…

पटना की जनता किसको बनाएगी साहिब और किसको करेगी खामोश

पटना। भारत के इतिहास में सबसे स्वर्णीम पन्नों में लिपटा बिहार हमेशा से इतिहास के पन्नों पर नया अध्याय लिखने में आगे रहा है। भारत वर्ष का सबसे गौरवशाली साम्राज्य मगध और ढाई हजार साल से मगध की राजधानी पाटलीपुत्र यानि आज का पटना। लोकसभा के आखिरी चरण यानि की 19 मई को वैसे तो देशभर के आठ राज्यों व बिहार की आठ सीटों समेत 59 सीटों पर वोट डाले जाएंगे लेकिन बिहार की सबसे हाई प्रोफाईल सीट पटना साहिब जिसपर की चुनावी घमासान को लेकर सभी की निगाहें टिकी…

अमेठी की जंग: राजीव बनाम मेनका से राहुल बनाम स्मृति तक

रूपेश कुमार सिंह(ब्यूरो अमेठी) लोकसभा 2019 के चरण धीरे-धीरे समाप्त हो रहे हैं और 23 मई को चुनाव के परिणाम आने हैं। देश को आठ प्रधानमंत्री देने वाले प्रदेश की रानीति पर भी सभी की निगाहें टिकी है।  यूपी की हाई प्रोफ़ाइल सीटों में से एक अमेठी सीट जहां कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का मुकाबले भाजपा की केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से है। उत्तर प्रदेश की अमेठी लोकसभा सीट ‘गांधी परिवार’ का मजबूत गढ़ मानी जाती रही है। पहले संजय गांधी और उनके निधन के बाद राजीव गांधी ने लोकसभा…

अवध की जमीं से बुंदेलों की धरती तक की संघर्ष गाथा

रूपेश कुमार सिंह उत्तर प्रदेश में लोकसभा चुनाव का पांचवां चरण राज्य की राजनीति का एक महत्वपूर्ण पड़ाव हैं। इस चरण में सियासत का रंग लखनऊ और उसके आसपास के जिलों में सुर्ख होते दिखेगा। पाचवां चरण आते−आते राज्य को लू के थपेड़ों ने अपने आगोश में समेट लिया है। दिन में सड़के विरान होने लगी हैं। सूरज के ढलने के बाद यह विरानगी टूटती है। 06 मई को पांचवें चरण का मतदान होना है और इसी दिन से पवित्र रमजान के महीने की भी शुरूआत हो जाएगी। हो सकता…

अनूप जलोटा और जसलीन की जोड़ी का मज़ाक उड़ाना क्या सही है?

किसी ने अनूप को बूढ़ी घोड़ी लाल लगाम बताया, तो किसी ने कहा लड़कों अगर तुम अब तक सिंगल हो तो परेशान मत हो, क्या पता वो अब तक पैदा ही न हुई हो। मतलब तरह-तरह के कमेंट कर लोगों ने अनूप और जसलीन की जोड़ी का मज़ाक उड़ाया। पर क्या इस तरह से किसी कपल का अपमान करना सही है?  भजन गायक और जसलीन की जोड़ी का मज़ाक उड़ाने वाले लोगों से चंद सवाल? 1. अनूप जलोटा एक भजन गायक हैं, क्या सिर्फ़ इसीलिए वो किसी से प्यार नहीं…